राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के स्वागत के लिए दुल्हन की तरह सजा गांव सूई

जानिए आज का राशिफल…
November 17, 2021
आज से श्रद्घालुओं के लिए खुलेगा करतारपुर साहिब कॉरिडोर
November 17, 2021

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के स्वागत के लिए दुल्हन की तरह सजा गांव सूई

Spread the love
हरियाणा। हरियाणा के भिवानी जिले में 14 साल छह माह बाद दूसरी बाद किसी राष्ट्रपति के आगमन को लेकर उत्सुकता बनी है। वहीं गांव सूई को दुल्हन की तरह सजाया गया है। वहीं ग्रामीणों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के स्वागत के लिए भी पलक पांवड़े बिछा दिए हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के आगमन से पहले रातोंरात विकास कार्य पूरे कराने में अधिकारी भी देर रात तक काम पर जुटे हुए थे। पिछले एक पखवाड़े से राष्ट्रपति के आगमन की तैयारियां चल रही हैं। गांव सूई में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के आगमने से पहले ही अन्य पड़ोसी जिलों से भी भारी संख्या में पुलिस बल गांव में पहुंच गया। मंगलवार को समारोह स्थल व आसपास के क्षेत्र में पुलिस ने भी मोर्चाबंदी कर दी। वहीं सुरक्षा एजेंसियों के जवानों को भी विशेष जगहों पर तैनात किया गया है। गांव के मुख्य रास्तों को भी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के स्वागत में सजाया गया है। इसी के साथ गांव सूई के रास्ते पर भी ट्रैफिक पुलिस रास्ते को साफ करा रही है। अव्यवस्थित ढंग से खड़े वाहनों को भी क्रेन की मदद से हटाया गया। सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों की भी कार्यक्रम को लेकर विशेष ड्यूटियां लगाई गई हैं। वहीं बिना अनुमति के किसी भी व्यक्ति या कर्मचारी व अधिकारी को भी प्रवेश नहीं मिलेगा। ऐसे में परमिशन लेने वाली मीडिया ही कार्यक्रम की नजदीक से कवरेज कर पाएगी। राष्ट्रपति के कार्यक्रम में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई हैं, जबकि 14 साल पहले 2007 भिवानी के कलिंगा गांव में आए तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के कार्यक्रम में कड़े सुरक्षा प्रबंध तो थे, मगर उनके नजदीक जाने से किसी को नहीं रोका गया था, क्योंकि खुद राष्ट्रपति लोगों से गले मिल रहे थे। सुरक्षा एजेंसी के जवानों को भी उनके आसपास रहने के लिए कभी इधर तो कभी उधर दौड़ना पड़ रहा था। मगर इस बार हालत काफी बदल गए हैं। राष्ट्रपति के साथ हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय व मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी पूरे दल-बल के साथ मौजूद रहेंगे। वीवीआईपी की मौजूदगी से सुरक्षा मानकों को ध्यान में रखते हुए सुरक्षा भी कई स्तर पर की गई है। कार्यक्रम को लेकर करीब 1700 पुलिस कर्मचारियों को भी तैनात किया गया है।